Samagralay Reviews

Roselle/Gongura अपने हरे पत्तेदार सब्जियों औक अचार के लिए जाना जाता रहा है मगर आज हम रिव्यू कर रहें Roselle/Gongura से बनने वाले शरबत का जिसे Roselle/Gongura के फूलों से बनाया जाता है। महाराष्ट्र के Friends of Earthworm’s नामक संस्था इसे बनाती है। तो पढ़िए, क्यों खास है Roselle Sharbat Powder…

गंधेरनी/गंद्रायणी छाल अपने अद्वितीय औषधीय गुणों और स्वास्थ्य लाभों के लिए प्रसिद्ध है। यह असाधारण छाल पाचन में सहायता करती है, प्रतिरक्षा को बढ़ावा देती है। पढ़िए सामग्रालय पर म्योर पहाड़ ब्रांड के गंद्रायणी हर्ब के बारे में।

गंधेरनी/गंद्रायणी छाल अपने अद्वितीय औषधीय गुणों और स्वास्थ्य लाभों के लिए प्रसिद्ध है। यह असाधारण छाल पाचन में सहायता करती है, प्रतिरक्षा को बढ़ावा देती है। पढ़िए सामग्रालय पर म्योर पहाड़ ब्रांड के गंद्रायणी हर्ब के बारे में।

गुलाब जल (Soil Concept Damsak Rose Water)

गुलाब जल त्वचा और चेहरे के लिए काफी फायदेमंद होता है। तव्चा निखारने में जल्दी से काम करता है और भीतर से कायाकल्प करता है। मिलावटी और नकली गुलाब जल से बचें और ये रिव्यू पढ़कर जानें सही गुलाब जल कहां से ऑर्डर करें।

सफेद शहद वो भी केसर युक्त, बेहद ही स्वाद, प्रीमियम कश्मीरी केसर के धागों से युक्त प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट के तौर पर जाना जाता है। प्राचीन कश्मीर घाटी में बबूल के फूलों से बना हुआ सफेद शहद ग्लूटेन-मुक्त, गैर-जीएमओ है जिसे ताजगी और गुणवत्ता बनाए रखने के लिए सावधानीपूर्वक संसाधित और पैक किया गया है। पढ़िए रिव्यू….

एक ही साबुन में हल्दी, शहद, नींबू और लेमनग्रास के गुण मिल जाएं तो कोई कैमिकल वाले साबुन क्यों इस्तेमाल करे? सामग्रालय पर पढ़िए एक नेचुरल, हैंडमेड और कैमिकल फ्री साबुन का रिव्यू जिसे बना रहे हैं Prakritik …

कोल्ड-ड्रिंक हो या कोई जूस पीते वक्त हम सब प्लास्टिक की Straws इस्तेमाल करते हैं जो सेहत और पर्यावरण के लिए नुक्सानदेह होता है, इसीलिए सामग्रालय लाया है इसका विकल्प है Bamboo Straw जिसे बना रहा है ब्रांड Eco Cradle जिसका रिव्यू आप सब यहाँ पढ़ सकते हैं।

शहरों में कितने ही अच्छे ब्रांड्स वाले बासमती चावल खरीद लिजिए, खुशबू ना के बराबर मिलेगी। चावलों में खुशबू गायब हो रही है लेकिन सामग्रालय है तो परेशानी किस बात की! हमनें ढूंढ लिया है खुशबूदार और ऑरगैनिक बासमती चावल वो भी उत्तराखंड के देहरादून से। पढ़िेए रिव्यू…..

हल्दी सबसे सबसे जरूरी मसाला है भारतीय रसोईघरों में जिसे स्वास्थ लाभ के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। हल्दी जितनी प्योर होगी हमारा स्वास्थ उतना अच्छा रहेगा। सलेम हल्दी दक्षिण भारत मे पाई जाने वाली एक मशहूर हल्दी की किस्म है। पढ़िए सलेम हल्दी के बारे में रिव्य जिसे बना रहे हैं Orgraina…

दुनिया की सबसे बेहतर हल्दी 7 से 9 % अधिक करक्यूमिन (curcumin) वाली Lakadong वो भी सीधे मेघालय के खेतों से….जी हां, भारत में पयी जाने वाली दुनिया की सबसे बेस्ट हल्दी के बारे में जानें हमारे रिव्यू पेज पर Farm Connect की Lakadong Turmeric के बारे में।

लहसुन अपने आप में एक औषधि है, मगर यहाँ पर रिव्यू किसी आम लहसुन क नहीं बल्कि हिमालयन लहसुन का है जो दिखने में तो खूबसूरत है ही लेकिन स्वास्थ लाभ में भी काफी फायदेमंद है। यहाँ आप पढ़ सकतेहैं कश्मीर के कटरा में मिलने वाली हिमालयन लहसुन की जिसे उगा रहे हैं Farms of Kashmir…. हिमालय के प्राचीन, प्रदूषण-मुक्त वातावरण से प्राप्त, लहसुन की यह अनूठी किस्म इस क्षेत्र का एक गुप्त रहस्य है, जो अपने स्वास्थ्यवर्धक गुणों और असाधारण स्वाद के लिए प्रसिद्ध है।

गेहूं का आटा या गेहू का आटा एक प्रमुख रसोई सामग्री है क्योंकि आप इससे चपाती, परांठे और यहां तक कि मिठाई (हलवा) भी बना सकते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह स्वास्थ्य लाभ और फाइबर से भरा हुआ है जो पाचन तंत्र को बढ़ाता है लेकिन क्या होगा अगर हम आपको बताएं कि गेहूं का एक प्रकार है जो नियमित रूप से अधिक पौष्टिक है? हां, यह शरबती गेहूं है जो सामान्य गेहूं से महंगा है लेकिन स्वास्थ्य के लिए भी अधिक फायदेमंद है।

मीठास के लिए आजकल चीनी की जगह खजूर का इस्तेमाल किया जा रहा है जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद भी है। इस रिव्यू में पढ़िए कैसे खजूर का गुड़ फायदेमंद भी है और खजूर गुड़ का सबसे बढ़िया प्रोडक्ट कैसे और कहां से ऑर्डर कर सकते हैं।

Handmade, Organic, Natural एक साबुन में ये सब क्वालिटी मिलना मुश्किल है। लेकिन अब कैमिकल्स वाली साबुन से नहाने को कहें ना और अपनाकर देखें Greenvision Eco Organics की हाथ से बनाई हुई साबुन जिनकी खुशबू और फायदे एकदम नेचुरल और सेफ हैं। पढ़िए केरल में बनने वाली Moringa and Oats की साबुन का रिव्यू….

हर दिन बाजार में एक नए ब्यूटी प्रोडक्ट दिखाई देता है मगर इन सब में पीछ रह गए हैं प्राकृतिक तरीकें जो बिना किसी कैमिकल के हमारी त्वचा को बेहतर बनाते थे। ऐसा ही एक प्रोजक्ट है मुल्तानी मिट्टी। मुल्तानी मिट्टी पाउडर को कैसे प्राप्त कर सकते हैं जाने इस रिव्यू में….

चाय भारतीयों का पसंदीदा पेय पदार्थ है, साथ ही वो चाय अगर Darjeeling में सीधा आपके किचन तक लाई जाए तो बात ही क्या। सामग्रलय के इस रिव्यू में पढ़ें अपराजिता चाय के बारे में जिसे बनाया है Darjeeling Sips ने, एक बेहद ही खूबसूरत पैकेजिंग के साथ।

लाल, हरी बाजार वाली चटनी भूल जाएं और खाना शुरू करें गलगल चटनी। गलगल जिसे पहाड़ी नींबू भी कहा जाता है उसकी चटनी स्बाद में बेहतरीन होती है। पहाड़ी फल होने के कारण इसका स्बाद भी आम नींबू की तुलना में ज्यादा स्वाद है। होममेड और खट्टी-मीठी इस चटनी को रोजाना खाने में इस्तेमाल कर सकते हैं। पढ़िए गलगल की चटनी का रिव्यू।

राजमुडी चावल सीधे छोटे पैमाने के किसानों से प्राप्त किया जाता है। यह पचाने में बहुत आसान है, वजन घटाने को बढ़ावा देता है। यह मोटापे के खतरे को कम करता है और हृदय रोग को दूर रखने में मदद करता है। यह मधुमेह को भी नियंत्रित करता है और उच्च कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। पढ़िए सामग्रालय का रिव्यू Organic Mandya के लाल चावल या राजमुड़ी चावल के बारे में…

गन्ने का गुड़ (Kisan Organic Jaggery Powder)

सर्दियां आएं और गुड़ की खुशबू ना आए् तो सर्दी का मजा कम हो जाता है। गुड़ का इस्तेमाल पुराने समय से ही हो रहा है जो रिफाइंड शुगर से बेहतर विकल्प है सेहत को अच्छा रखने के लिए। इस रिव्यू में पढ़िए कैसे खजूर का गुड़ फायदेमंद भी है और खजूर गुड़ का सबस बढ़िया प्रोडक्ट कैसे और कहां से ऑर्डर कर सकते हैं।

चना सत्तू तो आप सब ने सुना होगा लेकिन सामग्रालय पर आप पढ़ पा रहे हैं मिलेट वाला सत्तू जो बना है कई सारे मोटे अनाजों से मिलकर जिसमें अलग-अलग मिलेट्स के पौषक तत्वों का भी लाभ मिलेगा। इस अनोखे प्रोडक्ट का रिव्यू पढ़िए सामग्रालय पर।

Bouna Village Farmers की Black Soybean

अगर आप पहाड़ों से प्रेम करते हैं तो आपने भट्ट की दाल का नाम जरूर सुना होगा और ये भट्ट की दाल है काली सोयाबीन। पहाड़ी राज्यों में भट्ट की दाल हर घर में बनाई जाती है। उत्तराखंड की खास काली सोयाबीन हमें मिली पितौरागढ़ के मुन्सयारी के Bouna Village Farmers से। पढ़िए सामग्रालय पर काली सोयाबीन का रिव्यू

Agro Heritage का कतरनी चावल

कतरनी चावल भारत में बिहार राज्य में उगाया जाने वाला एक अनोखा स्वाद वाला, सुगंधित, छोटे दाने वाला चावल है। मूल रूप से भागलपुर और बांका जिलों विशेषकर जगदीशपुर में उगाए जाने वाले कतरनी चावल की मांग न केवल बिहार में, बल्कि पूरे देश में है। पढ़िए Agro Heritage के भागलपुरी कतरनी चावल का रिव्यू…

जौ का उपयोग आप सब ने खाने में जरूर किया होगा लेकिन कभी जौ की चाय पी है…? जी हां, Nima Goos Goos लद्दाख में बना रहे हैं जौ की चाय जिसे जौ को भून कर बनाया जाता है। पढ़िए सामग्रालय पर जौ की चाय का ये रिव्यू की सामग्रालय को जौ की चाय का स्वाद कैसा लगा।

Incense Sticks बाजारों में ढेरों ब्रांड्स के मिलते हैं कोई खुशबू के कारण पसंद किया जा रहा है तो कोई ब्रांड के नाम पर, लेकिन सामग्रालय पर जाने Organic तरीके से उगे Pine के पेड़ों से बनी Incense Sticks जिसे बना रहे हैं Gaon Originals, जो खुशबू तो देती ही है साथ-साथ आपके हेल्थ को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचाती।

Sea Buckthorn Tea वो भी सीधे लद्दाख से आपके घर तक….यो कोई मामूली चाय नहीं बल्कि खाश हिमालयन बेरी Sea Buckthorn से बनी चाय है जो विटामिन सी भरपूर और सेहत के लिए बेहद ही गुणकारी है। हमें ये चाय मिली Ladakh Basket से जो बेहद ही प्रीमियम प्रोडक्ट है। पढ़ें सामग्रालय का ये पूरा रिव्यू।

Gaydhane Naisargik Sheti की Waigaon Turmeric :

5.5% से अधिक करक्यूमिन (curcumin) वाली वायगांव हल्दी वो भी सीधे वायगांव (महाराष्ट्र) के खेतों से….जी हां, भारत में दूसरी सबसे बेहतर हल्दी कोई है तो वो है वायगांव हल्दी। हमारे रिव्यू पेज पर जाने

सामग्रालय परिवार की कोशिश हमेशा आपको खान-पान की नई-नई किस्मों की सामग्रियों के बारे में जानकारी देने की होती है। इस बार हमारे पास है एक खास सामग्री जो अपने नाम के साथ-साथ अपने रूप और फायदों के लिए भी अनोखी है। आप यहां पढ़ रहे हैं पहाड़ी राज्य उत्तराखंड के DIMUDH ब्रांड के Munsyari Rajma के बारे में।

जामुन सिरका एक प्राकृतिक पदार्थ है जो कि जामुन फल से बनता है और इसका सेवन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। यह सिरका अच्छी संख्या में विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट्स और खनिजों से भरपूर होता है, जो हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं। अगर आपको होममेड और पारंपरिक जामुन का सिरका चाहिए तो पढ़ें सामग्रालय का ये रिव्यू।

पहाड़ी राज्यों का पारंपरिक रेड हिमालयन चावल (Himalayan Red Rice), सबको प्रिय चावल वैराइटियों में से एक है जिसका विशेष रंग और महक लोगों को मोह लेती है। इसकी खासियत उसके गहरे भूरे/ लाल रंग में छिपी है, जिससे यह देखने में बहुत खूबसूरत और आकर्षक लगता है। यह चावल सदियों पुराना चावल है जो सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है, जो हमें मिला Himshakti से जो उत्तराखंज के देहरादून में स्थित है।

अश्वगंधा या Withania somnifera, आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली में उपयोग की जाने वाली एक लोकप्रिय जड़ी बूटी है। यह एक तरह की छोटी झाड़ी है जो Solanaceae परिवार का एक हिस्सा है। यह अलग-अलग रोगों के लिए और ज़्यादातर एक नर्व टॉनिक के रूप में (नसों पर आरामदायक प्रभाव डालने वाला) उपयोगी हो सकता है। अश्वगंधा को आमतौर पर इंडियन जिनसेंग या इंडियन विंटर चेरी कहा जाता है।

तुलाईपंजी एक स्वदेशी सुगंधित चावल है जो मुख्य रूप से भारत के पश्चिम बंगाल के उत्तरी दिनाजपुर जिले के रायगंज उप-मंडल में उगाई जाती है। इस चावल की किस्म की सुगंध और गुणवत्ता इसकी मूल उत्पत्ति से दृढ़ता से जुड़ी हुई है। तुलाईपंजी को ‘गैर-बासमती सुगंधित चावल’ के रूप में वर्गीकृत किया गया है। साल 2017 में बंगाल के इस खुशबूदार तुलाईपंजी चावल को भारत सरकार की तरफ से GI Tag भी मिल चुका है।

स्वाद जो याद रह जाए….करौंदा फल का मौसम बारिश के साथ आता है। बारिश के वक्त करोंदे की बिक्री भी खूब चलती ही रहती है और ये स्वास्थ के लिए भी बहुत फायेदेमंद होते हैं। तो इनको एक चटपटा सा चटकारा देने के लिए आज सामग्रालय पर पढ़ें करौंदा के अचार के बारे में। बढ़िया और घर के स्वाद वाला अचार कहीं दिख जाए तो खुद को रोकें ना खरीदने से।उसके लिए पहले पढ़ें Setiaz के करौंदा अचार के बारे में।

एक ऐसा तेल जिसे चाहें बालों में लगाएं या त्वचा पर लगाएं…दोनों के लिए बेहद ही लाभकारी हो और जो तेल है बना हुआ Apricot से यानि खुबानी से। खुबानी हिमालयन क्षेत्रों में उगने वाला फल है जिसे food और Non-food दोनों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। बाजारों में मिलने वालें दूसरे तेलों से बेहतर है Gauraaj Valley का Apricot Oil जो उत्तराखंड के देहरादून में स्थित है।

स्वाद भी और स्वास्थ लाभ एक ही डिश को खानें से… खाने में प्रोटीन की कमी आजकल एक बड़ी समस्या बन रही है। डेली डाईट में प्रोटीन की मात्रा को बैलेंस करने के लिए कई तरह के खाने को डाईट में शामिल करना पड़ता है, जो थोड़ा समय भी लेता है और बजट भी बढ़ाता है। इसका बढ़िया उपाय है Pour Naturale के Roasted Soybean जो आप स्नैक्स की तरह अपने साथ रख कर कभी भी खा सकते हैं। सोयाबीन में प्रोटीन की मात्रा भी अधिक होती है जो आप आसानी से खा सकते हैं रोस्टेड नट्स के रूप में।

Organic, Pure and Aromatic रोजमेरी चाहिए तो जानिए Himkosi के ऑरगैनिक फार्म को, जो उत्तराखंड के पहाड़ों के अल्मोड़ा जिले में कोसी नदी के किनारे बसा हुआ है और पहाड़ी वातावरण में ही बिना किसी हानिकारक फर्टीलाइजर यहाँ उगाई जाती है सुगंधित रोजमेरी। पहाड़ों से सीधा अपने घर तक ला सकते हैं पहाड़ों की सुगंध इस रोजमेरी को। सामग्रालय पर जानें Himkosi के इस प्रोडक्ट रोजमेरी के बारे में।

नमक किसी भी खाने की सबसे जरूरी सामग्री होती है। नमक की कई वैराइटी बाजारों में उपलब्ध है लेकिन हिमालयन पिंक नमक तेजी से लोग पसंद कर रहे हैं। यहाँ पढ़ें बढ़िया, स्वादिष्ट और हेल्दी हिमालयन पिंक नमक के बारे में जो मिला है Aranyam ब्रांड का जिसमें अलग-अलग 9 मसालों का मिश्रण भी शमिल है।

हमारे देश के आदिवासी लोग सालों से अपने खान-पान और नेचर के प्रति काफी सजग रहे हैं। आदिवासी हमेशा से महुआ के बीजों से निकाले तेल का इस्तेमाल अपनी दिनचर्या में करते रहे हैं। महुआ के तेल का इस्तेमाल त्वचा व बालों के लिए खासतौर पर किया जाता है। सामग्रालय पर यहाँ जानिए महुआ के तेल को कैसे इस्तेमाल में लाया जा सकता है जो हमें मिला Pranas Super food की तरफ से।

बांस की टहनी या Bamboo shoots हमारे लिए दाल-चावल की तरह है, हम इससे दूर रहने या की कल्पना नहीं कर सकते हैं “
ये शब्द नार्थ इस्ट राज्यों में रहने वाले लोगों से आपने सुना होगा। Bamboo shoots यहां के खाने का अहम हिस्सा है। खाने में स्वाद औक सेहत को संभालने वाले Bamboo shoots के अचार के बारे में सामग्रालय बात ना करे ऐसा कैसे हो सकता है। सामग्रालय बता रहा है आज के रिव्यू के जरिए Bamboo shoots के अचार से जुड़े हमारे अनुभव।

अचार बिना सब सून….खाने के साथ अचार ना हो तो स्वाद अधूरा रह जाता है और वो भी लसोड़े का अचार। अचार अगर घर का बना हो तो क्या ही कहने। अगर मार्किट में मिलने वाले रेगुलर अचार के ब्रांड्स को खा-खाकर थक चुके हैं या फिर कुछ नया ट्राई करना चाहते हैं तो सामग्रालय आपके लिए लाया है लसोड़ा का अचार। सामग्रालय बता रहा है आज के रिव्यू के जरिए लसोड़े के अचार से जुड़े हमारे अनुभव।

Celebrating Farmer’s Sugarcane Vinegar Review

गन्ने का सिरका (sugarcane sirka), गन्ने के रस को फर्मेंटेट करके बनाया जाता है। ये सिरका असल में कई ऐसे प्रीबाaयोटिक गुणों से भरपूर है जो कि सेहत के लिहाज से कई प्रकार से काम कर सकते हैं। ये पहले तो बॉडी डिटॉक्स में मददगार है। दूसरा ये पेट की कई समस्याओं को दूर कर सकता है। तीसरा, ये आपकी स्किन के लिए भी फायदेमंद है। पर सवाल ये है कि वजन घटाने (ganne ka sirka for weight loss) में सेब का सिरका कैसे काम कर सकता है। सामग्रालय पर पढ़िए Celebrating Farmer’s का प्राकृतिक गन्ना के सिरके का रिव्यू।

फालसा फल गर्मियों को मौसम वाला फल है जो विटामिन सी का भंडार है। फालसा फल एक बेरी की तरह का फल है जिसे कच्चा या जूस के रूप में कनस्यूम किया जाता है। मार्किट में तरह-तरह के कन्सनट्रेट (Concentrate) मिलते हैं जो preservatives के नाम पर या तो शुगर मिला रहे हैं या आर्टिफिसियल रंगों का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में हेल्दी और ऑथेंटिक प्रोडक्ट खोजना मुश्किल हो जाता है। हमेशा की तरह आपकी इस समस्या को हल कर रहा है सामग्रालय जो लाया है Courtyard Memories का Phalsa Ale जो शुद्ध भी है और स्वादिष्ट भी।

OOOFP (Om Ojas Organic Products PVT.LTD) Khapli Wheat Flour :

गेहूं का आटा या गेहू का आटा एक प्रमुख रसोई सामग्री है क्योंकि आप इससे चपाती, परांठे और यहां तक कि मिठाई (हलवा) भी बना सकते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह स्वास्थ्य लाभ और फाइबर से भरा हुआ है जो पाचन तंत्र को बढ़ाता है लेकिन क्या होगा अगर हम आपको बताएं कि गेहूं का एक प्रकार है जो नियमित रूप से अधिक पौष्टिक है? हां, यह खापली गेहूं है जो सामान्य गेहूं से महंगा है लेकिन यह उचित है क्योंकि यह पारंपरिक संस्करण की तुलना में दोगुना स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है।

एप्पल साइडर विनेगर (ACV) एक प्रकार का सिरका है जिसे कुचले हुए सेब, खमीर और मिठास का इस्तेमाल करके बनाया जाता है। इसका उपयोग सलाद ड्रेसिंग, अचार और मैरिनेड जैसे खाद्य पदार्थों में एक घटक के रूप में किया जाता है। कई सालों से लोग इसे कीटाणुओं से लड़ने से लेकर नाराज़गी को रोकने के लिए घरेलू उपचार के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं। सामग्रालय ने चुना है The Nature’s Way का Honey Apple Cider Vinegar, पढ़िए इ